Ro Pa Rahe Hain Aap Badhai Hai Roiye | Abbas Qamar Shayari | Jashn-e-Rekhta 2019

 About This Shayari 
A Beautiful Shayari “Ro Pa Rahe Hain Aap Badhai Hai Roiye!” which is written and Performed by young generation poet Abbas Qamar on the stage of ‘Jashn-e-Rekhta‘.
 Different Words 
Fursat-e-mah-o-sal = Free time of month and years
Fikar-e-gardish-e-aasmaan = Worry of movement of skies
Malaal = Grief, sorrow
Urooj = To uplift, Regeneration
Zawaal = Disaster, Problem, Junkel, Mess
Intekhab = To select, The selection
Aabla-pai = Having blisters in the feet
Asir-e-zabt = Captive, bound by tolerance
Do-aba = A tract of land lying between two rivers, confluence of two streams
Rawan = Soul, life, moving, active
Shadid = Strong, intense
Aasar = Symptoms, indications, signs

Ro Pa Rahe Hain Aap Badhai Hai.. (In Hindi)

 

किसे फुर्सत-ए-माह-ओ-साल है, ये सवाल है 
कोई वक़्त है भी कि जाल है, ये सवाल है 
ना है फिक्र-ए-गर्दिश-ए-आसमां, 
ना ख्याल-ए-जां मुझे फिर ये कैसा मलाल है, ये सवाल है 
वो सवाल जिसका जवाब है, मेरी ज़िन्दगी 
मेरी ज़िन्दगी का सवाल है, ये सवाल है 
मैं बिछड़ के तुजसे बलन्दियो पे जो पस्त हो 
ये उरूज है की ज़वाल है, ये सवाल है 
जिस बूट पे फ़िदा हो गए, जान जिसपे लूटा दी
ये उरूज है की ज़वाल है, ये सवाल है 
जिस बूत पे फ़िदा हो गए, जान जिसपे लूटा दी
उसने भी बिछड़ते हुए जीने की दुआ दी
सेहरा, कि वही रेत का बे-अंत समंदर 
और हज़रत-ए-वेहसि दर-ओ-दीवार के आदि
अपनी ही किसी धुन में था उलझा हुआ वो शख्स
सो हमने कहानी भी कोई और सुना दी 
तन्हाई से चौके जो कभी खुद को पुकारा 
ख़ामोशी से घबराये तो ज़ंजीर हिला दी
तेरे ख़्याल से फूटा था ख्वाब कहते है 
तुझे हयात का लूब-ए-लुबाब कहते है 
चुना है तूने मुझे ज़िन्दगी के दामन में 
मुझे ये लोग तेरा इंतेखाब कहते है
और इसी का नाम रवानी है बरसर-ए-दरिया 
इसी को दश्त में प्यासे शराब कहते है 
गुनहगार है उसके सो उसकी महफ़िल में हम
उसके हुस्न को उसका नकाब कहते है
अश्कों को आरज़ू-ए-रिहाई है रोइए 
आँखों की अब इसी में भलाई है रोइए
ख़ुश हैं तो फिर मुसाफ़िर-ए-दुनिया नहीं हैं आप 
इस दश्त में बस आबला-पाई है रोइए 
हम हैं असीर-ए-ज़ब्त इजाज़त नहीं हमें 
रो पा रहे हैं आप बधाई है रोइए 
हम ऐसे सर-फिरे दुनिया को कब दरकार होते हैं 
अगर होते भी हैं बे-इंतिहा दुश्वार होते हैं 
ख़मोशी कह रही है अब ये दो-आबा रवाँ होगा 
हवा चुप हो तो बारिश के शदीद आसार होते हैं 
शिकायत ज़िंदगी से क्यूँ करें हम ख़ुद ही थम जाएँ 
जो कम-रफ़्तार होते हैं वो कम-रफ़्तार होते हैं
बदन इनको कभी बाहर निकलने ही नहीं देता 
‘क़मर-अब्बास’ तो बा-क़ाएदा तय्यार होते हैं
                                       – अब्बास क़मर

 

Ro Pa Rahe Hain Aap Badhai Hai..

 
Kise fursat-e-mah-o-sal hai, ye sawal hai

Koi waqt hai bhi ki jaal hai, ye sawal hai
Na hai fikar-e-gardish-e-aasmaan, na khayal-e-jaan
Mujhe fir ye kaisa malaal hai, ye sawal hai
Wo sawal jiska jawab hai, meri zindagi
Meri zindagi ka sawal hai, ye sawal hai
Mai bichad ke tujse balandiyo pe jo pastt hu
Ye urooj hai ki zawaal hai, ye sawal hai
Jis boot pe fida ho gye, jaan jispe loota di
Usne bhi bichdte hue jeene ki dua di
Shehra, ki wahi ret ka be-ant samndar
Aur hazrat-e-wehsi dar-o-deewar ke aadi
Apni hi kisi dhun me tha uljha hua wo
shakhs
So humne kahani bhi koi aur suna di
Tanhaai se chaoke jo kabhi khud ko pukaara
Khamoshi se ghabraye to zanjeer hila di
Tere khayaal se foota tha khwab kehte hai
Tujhe hayaat ka loob-e-loobab khate hai
Chuna hai tune mujhe zindagi ke daaman me
Mujhe ye log tera intekhab kehte hai
Aur isi ka naam rawaani hai barsar-e-dariya
Isi ko dasht me pyaase sharab kehte hai
Gunahgaar hai uske so uski mehfil me
Hum uske husn ko uska nakaab kahte hai
Ashkon ko aarzu-e-rihai hai roiye!
Aankhon ki ab isi mein bhalai hai roiye!
Khush hain to phir musafir-e-duniya nahin hain aap,
Is dasht mein bas aabla-pai hai roiye!
Hum hain asir-e-zabt ijazat nahin hamein
Ro pa rahe hain aap badhai hai roiye!
Hum aise sar-phire duniya ko kab darkar hote hain
Agar hote bhi hain be-intiha dushwar hote hain
Khamoshi kah rahi hai ab ye do-aba rawan hoga
Hawa chup ho to baarish ke shadid aasar hote hain
Shikaayat zindagi se kyun karen hum khud hi tham jayen
Jo kam-raftar hote hain wo kam-raftar hote hain
Badan inko kabhi baahar nikalne hi nahin deta
‘Qamar-abbas’ to ba-qayeda tayyaar hote hain
                                     – Abbas Qamar
 

 

NaaSongs

Comments

  Subscribe  
Notify of