Main Dil Ki Baaton Mein Aagaya By Charagh Sharma | Shayari | Jashn-e-Rekhta – Naa Songs

Main Dil Ki Baaton Mein Aagaya By Charagh Sharma | Shayari | Jashn-e-Rekhta – Naa Songs
Main Dil Ki Baaton Mein Aagaya By Charagh Sharma | Shayari | Jashn-e-Rekhta

About This Shayari :- This beautiful Shayari for Jashn-e-Rekhta  is presented by Young Shayar Charagh Sharma and also written by him which is very beautiful and delightful.

 

Main Dil Ki Baaton Mein Aagaya

Kafan se kaaf hataana hai fan banaana hai
Hamaara kaam dukhan ko sukhan banaana hai
Phir uske aage ke sab kaam titliyon ke supurd, 
Tumhe toh baagh banaane ka man banaana hai
Aise lab hain ki jo irshad kiya jayega
A B C D ki tarah yaad kiya jayega
Haaye ye phool se chehre ki khuda janta tha
Ek din camera eijaad kiya jayega
Yaad bhoole hue logon ko kiya jata hai
Bhool jao ki tumhe yaad kiya jayega
Chaman me kaun baboolon ki daal kheenchta hai
Yahan jo aata hai, phoolon ke gaal kheenchta hai
Ae pyaar baantne wale! main khoob jaanta hoon,
Ke kitni der me machhuaara jaal kheenchta hai
Nikal bhi sakta hoon qaid-e-takhayyulat se main, 
Agar vo shakhs kheench le jiska khyaal kheenchta hai
Main hoshmand hoon khud bhi ,so meri ghazalon me
Na raqs karta hai aashiq, na baal kheenchta hai
Kisi ko class se bahar nikaal rakkha hai 
Kisi ne seat pe roomaal daal rakkha hai
Kisi ne kamre me barbad kar liya khud ko
Kisi ne dasht me apna khyaal rakkha hai
Hakeem-e-sheher ke bacchon ko paalne ke liye
Har aadmi ne koi rog paal rakkha hai
Wahan vo chidiya bhi khush hai ye sochkar, sayyad ! 
Ki usne duniya ko pinjare me daal rakkha hai
Ghazal hi ishq ka maidaan hai to aage badho
Yahan ka morcha humne sambhaal rakkha hai
Main pichhle bhaarat ka naksha dekh raha tha 
Aur phir ghar mein apna hissa dekh raha tha 
Maine tab se chhat pe jaana chhod diya hai 
Ek apaahij bachcha jeena dekh raha tha
kisi ke saaye to qaid krne ka ik tareeqa bata raha hoon
Ik uske aage charagh de, ik uske peechhe charagh rakh de 
Main dil ki baaton me aa gya aur utha ke le aaya uski paayal,
Dimaag deta raha sadaayen, charagh rakh de! charagh rakh de! 
                                        – Charagh Sharma

Main Dil Ki Baaton Mein Aagaya (In Hindi)

कफ़न से काफ़ हटाना है फ़न बनाना है
हमारा काम दुखन को सुख़न बनाना है
फिर उसके आगे के सब काम तितलियों के सुपुर्द
तुम्हें तो बाग़ बनाने का मन बनाना है
ऐसे लब हैं कि जो इरशाद किया जाएगा
ऐ बी सी डी की तरह याद किया जाएगा
हाए ये फूल से चेहरे कि ख़ुदा जानता था
एक दिन कैमरा ईजाद किया जाएगा
याद भूले हुए लोगों को किया जाता है
भूल जाओ कि तुम्हें याद किया जाएगा
चमन में कौन बबूलों की डाल खींचता है 
यहाँ जो आता है फूलों के गाल खींचता है
ऐ प्यार बांटने वाले! मैं ख़ूब जानता हूँ,
के कितनी देर में मछुआरा जाल खींचता है 
निकल भी सकता हूँ क़ैद-ए-तख़य्युलात से मैं,
अगर वो खींच ले जिसका ख़याल खींचता है
मैं होशमंद हूँ ख़ुद भी, सो मेरी ग़ज़लों में
न रक़्स करता है आशिक़ न बाल खींचता है
किसी को क्लास से बाहर निकाल रक्खा है
किसी ने सीट पे रूमाल डाल रक्खा है
किसी ने कमरे में बर्बाद कर लिया ख़ुद को,
किसी ने दश्त में अपना ख़याल रक्खा है
हकीम-ए-शहर के बच्चों को पालने के लिए
हर आदमी ने कोई रोग पाल रक्खा है
वहां वो चिड़िया भी ख़ुश है ये सोच कर, सैयाद!
कि उसने दुनिया को पिंजरे में डाल रक्खा है 
ग़ज़ल ही इश्क़ का मैदान है,तो आगे बढ़ो! 
यहाँ का मोर्चा हमनें संभाल रक्खा है। 
मैं पिछले भारत का नक्शा देख रहा था
और फिर घर में अपना हिस्सा देख रहा था 
मैंने तब से छत पे जाना छोड़ दिया है
एक अपाहिज बच्चा जीना देख रहा था 
किसी के साए को क़ैद करने का एक तरीका बता रहा हूं
इक उसके आगे चराग रख दे, इक उसके पीछे चराग रख दे 
मैं दिल की बातों में आ गया और उठा के ले आया उसकी पायल,
दिमाग़ देता रहा सदाएं, चराग रख दे! चराग रख दे! 
                                             – चराग शर्मा

 

NaaSongs

Comments

  Subscribe  
Notify of